Abhinav Saxena bio photo

Abhinav Saxena

a body of clay, a mind full of play, a moment's life - that is me

Twitter Facebook LinkedIn Github Flickr

गाँव में खड़ा वो बरगद का पेड़
जाने क्यों
मन में कौतूहल पैदा करता है

सदियों पुराना है शायद
फिर भी पल-पल
जड़ों में लौट जाने की कवायद

ऊँचे-ऊँचे पर युवा पेड़ो के मध्य
जमीन से जुड़े रहना ही
उसकी दीर्घायु का रहस्य सा लगता है
वो बरगद का पेड़
जाने क्यों
मन में कौतूहल पैदा करता है



सुना है शहर में
इस वर्ष भी
साइबेरिया से ढेरो पक्षी
सर्दिया मानाने आये हैं

उचकते-फुदकते
एक झुण्ड में उड़ा करते
लगता है जैसे क्रिसमस के
किसी जलसे में शामिल होने आये हैं

शहर ने तो
अब अपना लिया है उनको
फिर भी न जाने क्यों
वे ना इस शहर को अपनाते हैं
हँसते-गाते, ख़ुशी मानते
अपने उन निष्ठुर घरो में
बार-बार लौट जाते हैं



मित्रो को महानगरो में ‘सेटल’ होते देख
मन में जागते है कुछ प्रश्न सदा
मैं हूँ किस शहर का?
मेरे नीड़ का स्थान कहाँ?

अवसरों की तलाश में भागता
लगता है जड़ो से अब कट गया हूँ
रह-रह लौटता है एक ही विचार
क्या कहीं फिर रोपित भी हुआ हूँ?

जड़ो से उभरना
और उभर के ऊपर उठना
ये तो जीवन चक्र है
पर जीवन-स्त्रोत मूल बिना
क्या आसमान छूना संभव है?

– अभिनव
28 दिसम्बर 2011